सुविचार # Quote

दूसरे की बजाय अपने आप को खुश करना सीखो क्योंकि जिसको खुश नही होना होगा उसके पीछे एक तो क्या अनेक जिन्दगी भी खर्च कर दोगे तो भी ख़ुश नही होगा और जिसको खुश होना होगा उसको खुश करने की जरूरत ही नही पड़ेगी आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 Advertisements

राजस्थान # बोली की मिठास # जिंदगी की किताब (पन्ना # 335)

मारवाड़ी लोग जिन्हे हिन्दी भाषा बोलनी अच्छी तरह से नही आती है और वे हिन्दी भाषा बोलने की कोशिश करते है पर मारवाड़ी शब्द की झलक आये बिना नही रहती ,जिनका हल्का समावेश मिठास व रोचकता के साथ मुस्कुराने का भाव भी प्रदान करता है । देखिये कुछ झलक …… मारवाड़ी लोग जो हिन्दी भाषा…

सच बात # Quote

aajkal ki aulad se zyada achhe to machar hain kam se kam shaam dhalane se pahale ghar to aa jaate hain आज कल की औलाद से ज़्यादा अच्छे तो मच्छर हैं कम से कम शाम ढलने से पहले घर तो आ जाते हैं आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

सुविचार # जागरूकता # Quote

Kudrati niyam hai ki mitra aur chitra jitnay dil se banaoge , utana hi usmay nikhaar aata jayaga . कुदरती नियम है मित्र और चित्र जितने दिल से बनाओगे उतना ही उसमे निखार आयेगा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

बचपन की यादे # Quote

ना जमाने का ग़म ना रिश्तों का बंधन ना घर का टेंशन सबका अटेंशन बड़ी खूबसूरत सी वो ज़िन्दगानी महसूस ही नही हुआ ना जाने कब कैसे कहॉ मेरा खूबसूरत बचपन चला गया आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

अभिनेता शशिकपूर जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि 🙏🙏

वक़्त ने क्याँ किया ,हसीं सितम !! शशीकपूर हीरोइनों के साथ ये चित्र कही से लिया है बाँलीवुड के महान अभिनेता और भारत के पहले इंटरनेशनल अभिनेता शशि कपूरजी का आज दिनांक 4/12/17 को मुंबई मे शाम को कोकिलाबेन अस्पताल में 5:30 बजे निधन हुया हो गया । वे लम्बे समय से बीमार चल रहे…

नाम – जिंदगी की किताब (पन्ना # 298)

मैने रद्दी काग़ज़ों के रूप मे  सड़कों पर उड़ते अनेक नाम देखे है  जो मरने से पहले  नाम की चाह मे  जीवन भर मरते रहे  जिनमें ठेले वाले चना मूँगफली भरते रहे है । आपकी आभारी विमला मेहता  जय सच्चिदानंद 🙏🙏

सीता माता को जब रावण हरण करके ले गया  तब मन्दोदरी ने रावण से पूछा कि  “हे रावण ” यदि आपकी सीता में इतनी ही रूचि थी तो  आप राम का वेश धरकर भी सीता को ले जा सकते थे , साधु का वेश बनाने की क्या जरूरत थी ? रावण बोला देखो “मन्दोदरी ”…

जिन्दगी के सातों रंग – जिंदगी की किताब (पन्ना # 268)

Good day to all divine souls … पानी के बुलबुले पर  जब सूरज की किरणें पड़ती है तो  इन्द्रधनुष के सातों रंग दिखते है  जिंदगी के बुलबुले मे  जब पानी की तरह  उम्र की रवानी होती है  तब जिन्दगी के सातों रंग दिखते है  और साथ मे  एहसासों के सूरज की जवानी होती है ।…

थकावट – जिंदगी की किताब (पन्ना # 250)

कभी कभी रोज की दिनचर्या मे या बाहर की भागदौड़ मे थकान का अहसास होने लगता है । दवाई भी लेना नही चाहते है । ऐसी स्थिती मे थकावट कैसे दूर की जाए , आइये आज इस पर थोड़ा विचार किया जाए | 1. अधिक थकान होने पर, सोते समय गर्म दूध का सेवन करें,चाहें…