Quote # 380

औरत हूँ मैं सब सम्भाल लेती हूँ चाहे आँगन की रंगोली हो या दफ्तर की फाइल हो परिवार का टेंशन हो या दुनियादारी का मेंशन हो साड़ी का पल्लू बाँध कर भी औरत हूँ मै सब संभाल लेती हूँ Pls like and share my fb page https://m.facebook.com/rangiloodesh/ Thanks आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏…

Quote # 377

बहुत खुशनसीब है वो पत्नी जिसका पति उसके सपने को साकार करने मे प्रोत्साहित करने के साथ उसकी मदद भी करता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

Quote # 275

दर्पण कभी झूठ नही बोलता प्रेम कभी ईर्ष्या नही करने देता आध्यात्मिक ज्ञान आकुल नही होने देता सत्य कभी कमजोर नही होने देता विश्वास दुखी नही होने देता कर्म कभी असफल नही होने देता आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 274

ना रूपया लगता है ना पैसा लगता है स्माइल दीजिये , बडा अच्छा लगता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote# 273

नानी के घर जाना है ,सुनकर मन हर्षित हो जाता है नानी जैसा प्यार दुलार ,कहॉ और मिल पाता है सबकी डांट से भी बचाती,करने देती है मनमानी नई नई कहानियॉ सुनाती,अच्छे-अच्छे पकवान खिलाती अच्छी बाते सिखलाती,साथ मे कोई बड़ी सीख दे जाती गलतियों को सुधार कर ,वह हमे बेहतर बनाती माँ तो प्यारी है…

Quote # 272

मेरी भावना …. अहंकार का भाव न रक्खूँ ,नही किसी पर क्रोध करूँ देख दूसरो की बढ़ती को , कभी न ईर्ष्या भाव धरूँ रहे भावना ऐसी मेरी , सरल सत्य व्यवहार करूँ बने जहॉ तक इस जीवन मे,औरों का उपकार करूँ आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 271

क्यों डरे जिंदगी में क्या होगा हर वक्त क्यों सोचें कि बुरा होगा बढ़ते रहे मंजिलों की ओर , ज़िंदगी में कुछ भी ना मिला तो क्या, हर बार तजुर्बा तो नया होगा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 270

मित्रता यानि बिना कुंडली मिलाए आजीवन रहने वाला संबंध आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 268

दोस्तो किसी को दुआ नही तो बददुआये भी मत देना क्योकि प्रकृति का नियम है कि जो हम देंगे वही लौटकर हमारे पास आने वाला है । आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

Quote # 267

बोलती है तो लगती दादी मॉ डांटती है जैसे मेरी हो मॉ कभी रूठना ,कभी मनाना कभी आंसू बहाना तो कभी मंद मंद मुस्कुराना लेकिन दिल की है बड़ी नेक सच कहूँ तो मेरी दीदी है लाखों में एक आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 266

किन साँसों पर एतबार करूँ जो अंत में मेरा साथ छोड जायेगी किस धन का अंहकार करूँ जो अंत में मेरे प्राणों को बचा नहीं पायेगी किस तन पर अंहकार करूँ जो अंत में मेरी आत्मा का बोझ भी नहीं उठा पाएगा डरना है तो ईश्वर से डर जिसकी अदालत में वकालत नहीं होती और…

Quote # 265

प्रभु से राग कोई बारिश का नाम नहीं, जो बरसे और थम जाए प्रभु से राग सूरज भी नहीं जो चमके और डूब जाए बल्कि प्रभु से राग हर श्वास पर है जो चले तो जिदंगी चले और रूके तो मौत बन जाए आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google