पति और पत्नी # जागृति # Quote #

चाहे फेरे ले लो या कहो क़बूल है अगर दिल में प्यार नहीं तो सब फ़िज़ूल है आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏 Advertisements

पति पत्नी # Quote #

पति पत्नी के रिश्ते मे प्यार ,अपनापन ,त्याग, विश्वास के साथ समर्पण की भावना हो एक दूसरे की कमियॉ देखने की बजाय अच्छाईयॉ पर जोर हो यही एक रिश्ता है जो जन्म से नही जुड़कर भी अंत तक जीवनसाथी बनकर साथ निभाता है । पति पत्नी का रिश्ता जहॉ एक दूसरे को जन्म से नही…

पति पत्नी # Quote

जिन्दगी भर का बंधन है साजन ,इसको निभाऊंगी मै महक उठे तेरी दुनियाँ का हर एक कोना हर साँस के साथ इसको सजाऊंगी मै ले ले इम्तिहान ज़िन्दगी कितने भी निष्ठा अपनी कभी डगमगा ना पाऊँगी मै आएगी यदि कोई विपदा तुम पर बनकर ढाल सामने खड़ी हो जाऊंगी मै सदा इस रिश्ते की पवित्रता…

पति पत्नी # Quote

बहुत खुशनसीब है वो पत्नी जिसका पति उसके सपने को साकार करने मे प्रोत्साहित करने के साथ उसकी मदद भी करता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

परिवार व रिश्ते # Quotes

जो व्यस्त थे वो व्यस्त ही निकले वक्त पर फालतू लोग ही काम आये दुःख में स्वयं की एक अंगुली आंसू पोंछती है और सुख में दसो अंगुलियाँ ताली बजाती है जब स्वयं का शरीर ही ऐसा करता है तो दुनिया से क्या गिला-शिकवा करना खुद मे खुदा को देखना ध्यान है दूसरो मे खुदा…

पति पत्नी # Quote

Pati patni rath ke do pahiye hai Pati jeewan rath ka sarthi aur sanchalak hai toh patni triveni sangam hai Khaana banate samay maa ki bhoomika, sneh mein behen ki bhoomika aur sukh dukh mein sahbhagini ke saath ardhangini ban jaati hai. पति पत्नी रथ के दो पहिये है पति जीवन रथ का सारथी और…

पति पत्नी # Quote

पत्नी और प्रेमिका मकान मे बताने के लिये पत्नी कान मे बताने के लिये प्रेमिका लेकिन आदर्श तो ये है कि राधा ही रुक्मणी रहे अर्थात प्रेमिका बन जाये पत्नी यदि प्रेमिका ना हो या बन ना पाये पत्नी तो पत्नी को ही प्रेमिका बना जाये !! आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

पति पत्नी की तकरार को कहो “लड़ाई या प्यार” # जिंदगी की किताब (पन्ना # 375)

पति पत्नी की तकरार को कहो “लड़ाई या प्यार” लड़ाई के लिये बात नहीं बतंगड चाहिये बिना वजह का बवंडर चाहिये मेरे घरवालों को ऐसा क्यों कहा ? मेरी इच्छाओ को पैसों से क्यों तौला ? सबके सामने वैसा क्यों बोला ? मॉ के जैसा क्यों बोला ? बेकार मे क्यों तनी रहती हो ?…