जानिये जिन्दगी के मूलमंत्र व व्यक्तित्व के बारे मे कुछ विचार …. # जिंदगी की किताब (पन्ना # 325)

जानिये व्यक्तित्व के बारे मे कुछ विचार …. जिन्दगी मे सफलता पाने के लिये व्यक्तित्व का भी बहुत बड़ा हाथ है ।हर व्यक्ति का अलग अलग तरह का व्यक्तित्व होता है ।कोई व्यक्ति बाहरी व्यक्तित्व का होता है तो कोई भीतरी व्यक्तित्व का धनी तो कोई दोनो तरह का । जानिये व्यक्तित्व के विषय मे…

दो बूँद शहद जिन्दगी के लिये # जिंदगी की किताब (पन्ना # 322)

दो बूँद शहद जिन्दगी के लिये …. शहद चाहे वह खानपान से संबंधित हो या चिकित्सा या सौन्दर्य से संबंधित हो । इसमें प्रचुर मात्रा के गुण होते है जो शरीर के लिये उपयोगी है । गुण – यह कभी खराब नही होता । इसमे पाई जाने वाली शर्करा आसानी से पच जाती है ।रोजाना…

डिप्रेशन ( अवसाद ) # जिंदगी की किताब (पन्ना # 318 )

शारीरिक रोग से ग्रस्त व्यक्ति का इलाज करना आसान होता है क्योंकि वह दवा द्वारा ठीक किया जा सकता है लेकिन मानसिक रोग के ग्रस्त व्यक्ति के इलाज मे परेशानी आती है क्योंकि इसमें रोगी की मानसिक स्थिती को बदलना मुख्य दवा है जो महत्वपूर्ण भी है । सुनने मे डिप्रेशन एक साधारण रोग लगता…

ध्यान के फायदे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 316)

मन की शांति सबसे बड़ी दौलत है । ध्यान से हमारी आध्यात्मिक उन्नति तो होती ही है ,साथ मे यह हर दिशा मे प्रगति करने मे सहायता करता है व साथ मे शांति व सुकून भी देता है ।ख़ुद का मन शांत होने से घर मे ,समाज मे भी शांति व आनन्दमय का वातावरण स्थापित…

आत्मविश्वास # जिंदगी की किताब (पन्ना # 312)

आत्म विश्वास जगाने के कुछ छोटे छोटे व्यावहारिक तरीके …. 1. पहला मंत्र – फुर्ती ,आत्मविश्वास का पहला मंत्र है । दिन की शुरूआत स्फुर्ति के साथ करे । जैसे ही सुबह ऑंख खुले ,प्रभु का स्मरण करते हुये सुस्ती छोड़कर फुर्ती के साथ बिस्तर व तकिया को अपने से अलग करे । 2. दूसरा…

चोरी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 389)

चोरी ……जी हॉ चोरी का मतलब दूसरों के हको को छीनना , जिस पर स्वयं का वास्तविक रीति से अधिकार ही नही है ।उस पर मालिक की बिना इजाजत से अधिकार करने , उसे अपने काम मे लेने , और उसे लाभ उठाने को चोरी कहते है । आज के युग मे पैसो की खातिर…

बाल विवाह # जिंदगी की किताब (पन्ना # 381)

picture taken from goggle हालाँकि बाल विवाह कानूनी अपराध है पर गॉवो मे आज भी बाल विवाह की प्रथा है । जिसमें नन्हें बच्चों को पढ़ने , खेलने कूदने की उम्र मे विवाह की डोर से बॉध दिया जाता है । बाल विवाह करना अशक्ति का स्वागत करना है ।शादी जैसे मंगल कार्य के लिये…

आत्मा का अस्तित्व # जिंदगी की किताब (पन्ना # 371)

आत्मा का अस्तित्व …. जो व्यक्ति प्रत्यक्षवादी मे विश्वास रखते है व आत्मा का अस्तित्व होने के लिये प्रत्यक्ष दिखाने के लिये तर्क करते है ।उनके लिये एक संत ने एक व्यक्ति को बहुत ही सुंदरता के साथ जवाब दिया जो इस प्रकार है – संत ने उस व्यक्ति से पूछा कि तुमने अंग्रेज़ी पढ़ी…

सुख दुख का माप # जिंदगी की किताब (पन्ना # 368)

एक व्यक्ति ने किसी संत पुरूष से सवाल किया कि गुरूजी हम सुखी है या दुखी है इसका आकंलन करने के लिये क्या करना चाहिये ? गुरूजी बोले कि इसका आंकलन करने का एक बहुत ही सीधा तरीका है । यदि सोने के बाद पॉच मिनट मे नींद आ जाये तो समझना वह इंसान सुखी…

रात को भोजन करना लाभदायक या नुक़सानदायक # जिंदगी की किताब (पन्ना # 365)

रात को भोजन करना स्वास्थ्य ,धार्मिक व वैज्ञानिक तीनों दृष्टि से लाभदायक से ज्यादा नुक़सानदायक है । हालाँकि आजकल की भागदौड़ वाली जिंदगी में सूर्यास्त तक भोजन कर लेना मुश्किल है फिर भी यदि जब भी संभव हो भोजन जल्दी करना श्रेयस्कर है । स्वास्थ्य दृष्टि के अनुसार देखा जाये तो भोजन पचाने के लिये…

ज़िन्दगी में अहमियत ज्ञान व ध्यान की # जिंदगी की किताब (पन्ना # 364)

आध्यात्मिक व अच्छी ज़िन्दगी जीने के लिये ध्यान व ज्ञान दोनों की एक साथ महत्वपूर्ण भूमिका होती है । वह कैसे होती है ? इसको एक उदाहरण के जरिये अच्छा समझ सकते है । यदि एक खिड़की पर कॉच लगा दिया जाये व उससे बाहर सड़क को देखे तो कई चलते फिरते लोग , तरह…

पश्चिमी पाश्चयता # जिंदगी की किताब (पन्ना # 363)

पाश्चात्य सभ्यता की कुछ बातों का भारतीय संस्कृति पर प्रभाव ….. पाश्चात्य संस्कृति से कुछ अच्छी बातें भी सीखने को मिलती है तो कुछ बातों का भारतीय संस्कृति पर दुष्प्रभाव भी पड़ता जा रहा है । पश्चिमी सभ्यता में पारिवारिक जीवन,हमारे संस्कार , खानपान , पहनावा ( महिलायें , लडकियॉ )आदि में हमारे देश मे…