Quote #

भिक्षा पात्र को किसी भी वस्तु से भरा जा सकता है परन्तु इच्छा पात्र को केवल सन्तोष रूपी धन से ही भरा जा सकता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google Advertisements

लोभ # जिंदगी की किताब (पन्ना # 384)

🌸भूमिका के हिसाब से लोभ लालच सब मे होता है फर्क इतना है कि किसी मे ज्यादा होता है तो किसी मे कम होता है 🌸लेकिन लोभ करने का आधार सही होना चाहिये ।यदि कोई इंसान धन ,पैसे , गोरख धंधे की चाह मे लोभ करता है तो वह अशान्ति देता व इसके लिये पाप…

Quote # 49

साधना अगर श्राप को वरदान बना देती है तो भावना पत्थर को भी भगवान बना देती है मगर स्वार्थ प्रतिष्ठा की खानों मे बहते रहने पर इच्छाओं की डाह इंसान को शैतान बना देती है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏