जिन्दगी # जागृति # Quotes #

मैडिटेशन का मतलब ऑखे बंद नही करना है बल्कि खोलना है ऑंखें तो पहले से ही बंद है ज़िंदगी की जिस डगर पर आप खड़े हैं उसमें गिला शिकवा पालने की बजाय उसका आनंद लीजिए पॉव में जूते नहीं है तो क्या हुआ ,सोचिए मैं उनसे तो ज़्यादा सुखी हूँ जिनके पाँव ही नहीं है…