Quote #

पुण्य किसी को दगा देता नही पाप किसी का सगा होता नही आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

तकरार # जिंदगी की किताब (पन्ना # 391)

तकरार – प्रेरक कहानी आपने संत कबीर का नाम जरूर सुना होगा ।संत कबीर को शांतिमय जीवन प्रिय था और वे अहिंसा, सत्य, सदाचार आदि गुणों के प्रशंसक थे। अपनी सरलता, साधु स्वभाव तथा संत प्रवृत्ति के कारण आज विदेशों में भी उनका समादर हो रहा है।उनसे जुड़ा एक बहुत प्रेरक प्रसंग है … संत…

Quote #

इज्जत और तारीफ मॉगी नही जाती , कमाई जाती है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

एक पेन गलती कर सकता है लेकिन पेंसिल नही क्योकि पेंसिल के साथ है गलतियॉ सुधारने के लिये रबर जिस इंसान के साथ रबर की तरह सच्चा हितैषी है वो आपकी सारी गलतियॉ मिटाकर आपको अच्छा इंसा बना देगी । आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

आप वही बने रहे जो आप है आप वही करे और कहे जैसा आप महसूस करते है क्योकि जिन्हे बुरा लगता है उनकी अहमियत नही और जिनकी अहमियत है वे बुरा मानेंगे नही आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

अच्छे रिश्तो के लिये पारदर्शिता बहुत जरूरी है वरना छल कपट से तो केवल महाभारत ही रची जाती है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

कितना फर्क है यारों गुस्सा अकेला आता है ,तब हमसे सारी अच्छाई ले जाता है लेकिन सब्र अकेला आता है ,तब हमें सारी अच्छाई दे जाता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

करना है तो बड़ों व अतिथियों का सत्कार करो सत्पुरुषों की प्रशंसा व संगति करो माता पिता की आज्ञा मानो गुणों से प्रीत और गुणी जनों का सम्मान करो आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

कागज की कश्ती में सवार है हम फिर भी कल के लिये परेशान है हम कल कुछ नही होता , जो है आज में है ,अभी में है क्योंकि आने वाला पल जाने वाला है हो सके तो इसमे ज़िन्दगी बिता लो पल तो ये भी जाने वाला है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद…

Quote #

नर हो या नारी हो उतनी ही इज्जत दो जहाँ तक सही हो ज्यादा सम्मान की या नारीवादिता में दबोगे सामने वाला बैंड बजायेगा पहले खुद का आत्मसम्मान फिर सामने वाले का सम्मान आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

Quote #

उन्हे अपना समझने से क्या फायदा जिनके मन मे आपके प्रति कोई अपनापन ही ना हो आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

शरद पूर्णिमा # जिंदगी की किताब (पन्ना # 390)

हिंदू संस्कृति में आश्रि्वन मास की पूर्णिमा का अपना विशेष महत्व है। इसे शरद पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। शरद पूर्णिमा को आनंद व उल्लास का पर्व माना जाता है। इस पर्व का धार्मिक व वैज्ञानिक महत्व भी है। पूर्णिमा को चंद्रमा पृथ्वी के सबसे निकट होता है जिससे चंद्रमा के प्रकाश…