Quote # 272

मेरी भावना …. अहंकार का भाव न रक्खूँ ,नही किसी पर क्रोध करूँ देख दूसरो की बढ़ती को , कभी न ईर्ष्या भाव धरूँ रहे भावना ऐसी मेरी , सरल सत्य व्यवहार करूँ बने जहॉ तक इस जीवन मे,औरों का उपकार करूँ आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 Advertisements

Quote #263

बहुत अच्छा करने पर भी यदि अपयश मिलता है तो दुखी या नर्वस ना हो । आपकी अच्छाई का परिणाम भविष्य मे कभी ना कभी जरूर मिलेगा यकीन मानिये ! पूर्व जन्म के यश नाम कर्म के हिसाब से इस जन्म मे यश या अपयश मिलता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture…

Quote # 254

आग्रह,हठाग्रह ,मताग्रह,कदाग्रह,मिथ्याग्रह,दुराग्रह,सत्याग्रह ,परिग्रह आदि अपने अंदर लड़े रहे इन ग्रहों को शांत कर देंगे तो बाहर के ग्रह हमे कोई हानि नही पहुँचायेंगे आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 250

बेटी मेरा अभिमान है ,बहू मेरा बहुमान है बेटी रौनक व अंश है ,बहू इज़्ज़त और कुल वंश है बेटी ऑंखो का तारा है ,बहू का मुख है चॉद मेरा बेटी मेरा सौभाग्य है ,बहू अहोभाग्य है बेटी घर की रानी है ,बहू के सर लक्ष्मी ताज है एक आज है ,एक कल है मेरा…

Quotes # 238,239

स्कूल जाते समय सबसे ज्यादा रोना तब आता था जब रात भर तेज बारिश होती और school के समय बंद हो जाती थी जिन्दगी की आधी शिकायतें ऐसे ही ठीक हो जाये अगर लोग एक दूसरे के बारे मे बोलने की जगह एक दूसरे से बोलना सीख जाये आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quotes # 205,206,207,208,209,210,211,212,213,214

किसीभीलड़कीकोवहचाहेविवाहितहोयाअविवाहितछेड़नापापहै …. आजकलआधुनिकजमानेमेबिंदीवसिंदूरलगानेकीपरंपरागुलहोतीजारहीहैजोविवाहितहोनेकोभीदर्शातीहै …..इसपोस्टकाआशयइसपरंपराकोजीवितरखनाहै आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 all picture taken from google

मन का आईना # जिंदगी की किताब (पन्ना # 362)

मन का आईना ….. एक नगर में राजा था जिसके पास अपार सम्पति,सोना चॉदी और हीरे जवाहरात थे । दिल का बहुत अच्छा था ।हमेशा लोगो की भलाई के लिये सोचता रहता था ।कोई भी उसके द्वार से खाली हाथ नही लोटता था ।साथ में वह नयी नयी चीजो को बनवाने का शौकीन था ।लेकिन…

Quotes # 193,194,195,196,197,198,199,200,201,202,203,204)

रिश्तो की ख़ुशबू वही है जहॉ समर्पण व आस्था हो , एक दूसरे की हर पल कमी महसूस हो जुदाई की वेदना और मिलन का अहसास हो फिर चाहे वह प्रेम हो या प्रभु भक्ति हो संबंध बिखरने के तो लाख बहाने आओ जुड़ने के हम अवसर ढूंढे जरूरी नही हर कोई मिलकर खुश हो…

Quotes #183,184,185,186,187,188,189,190,191,192

जो व्यस्त थे वो व्यस्त ही निकले वक्त पर फालतू लोग ही काम आये दुःख में स्वयं की एक अंगुली आंसू पोंछती है और सुख में दसो अंगुलियाँ ताली बजाती है जब स्वयं का शरीर ही ऐसा करता है तो दुनिया से क्या गिला-शिकवा करना खुद मे खुदा को देखना ध्यान है दूसरो मे खुदा…

रिश्तो की मधुरता # जिंदगी की किताब (पन्ना # 356)

शिल्पी और उसकी सास में किसी बात पर जोरदार बहसबाजी हो गई व बढते बढ़ते झगड़े का रूप ले लिया । गुस्से मे बात इतनी बढ़ गई कि दोनों ने एक साथ न रहने की कसम खा ली ।शिल्पी ने अपने कमरे में जा कर गुस्से से एकदम दरवाजा बंद कर लिया ,वही दूसरी और…

Quotes # 166,167

रात को सोते समय ये प्रार्थना ज़रूर करे हे भगवन जिन्दगी भर मैंने अपने लिये मॉगा है आज मै परमार्थ के लिये तुझसे मॉगता हूँ ,चाहे मेरी प्रार्थना तुझ तक पहुँचे या ना पहुँचे 1. बचपन मे किसी भी बच्चे की मॉ ना छिन जाये 2. युवा उम्र मे किसी भी स्री का अपने पति…