Quote #

नाराज न होना कभी यह सोचकर कि काम मेरा और नाम किसी का हो रहा है घी और बाती सदियों से जलते चले आ रहे है और लोग कहते है कि दिया जल रहा है। आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google Advertisements

Quote #

प्रेम वो अमृत है जो इन्सान को कभी मुरझाने नहीं देता और नफ़रत वो जहर है ,जो इन्सान को कभी खिलने नही देता आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

सच बोलिए ,सच बोलने से आज भले ही खतरा हो, पर सत्य एक दिन आपके सम्मान और विश्वास को पहले से सौ गुना अधिक मजबूती से लौटा लाएगा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

चेहरे की मुस्कुराहट फीकी ना कीजिये जिंदगी मे हर पल विश्वास रखिये आज अच्छा नहीं तो क्या हुआ कल को कुछ तो अच्छा ही होगा इतना खुद पर यकीन कीजिये आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

भाग्य और झूठ से जितनी उम्मीद रखेंगे उतनी ही ज्यादा निराशा मिलेगी व कर्म और सच पर जितना जोर देंगे उतना ही उम्मीद से ज्यादा मिलेगा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #400

स्वाद और विवाद दोनों ही छोड़ देना चाहिए स्वाद छोड़ो तो शरीर को फायदा विवाद छोड़ो तो सम्बन्धों को फायदा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 380

औरत हूँ मैं सब सम्भाल लेती हूँ चाहे आँगन की रंगोली हो या दफ्तर की फाइल हो परिवार का टेंशन हो या दुनियादारी का मेंशन हो साड़ी का पल्लू बाँध कर भी औरत हूँ मै सब संभाल लेती हूँ Pls like and share my fb page https://m.facebook.com/rangiloodesh/ Thanks आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परंपराये # जिंदगी की किताब (पन्ना # 377)

परम्परायें …. एक अंधे दम्पत्ति थे ,जो मिलकर सब कार्य आसानी से कर लेते थे । लेकिन सबसे बडी परेशानी तब होती थी ,जब अंधी पत्नी खाना बनाती और कुत्ता आकर रोटी खा जाता । इस वजह से रोटियां या तो कम पड़ जाती या खाने को नही मिलती । तब अंधे पति को एक…

पूत के पाव पालने मे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 375)

प्रेरक प्रसंग …… कहते है ना पूत के पाव पालने मे नजर आते है । ऐसा ही एक प्रसंग है ….. एक व्यक्ति के तीन बच्चे जो अलग अलग प्रवृति के थे ,उनके भविष्य को लेकर वह काफी चिंतित था । उसे समझ नही आ रहा था कि उन्हें किस दिशा मे बढ़ने के लिये…

Quote # 254

आग्रह,हठाग्रह ,मताग्रह,कदाग्रह,मिथ्याग्रह,दुराग्रह,सत्याग्रह ,परिग्रह आदि अपने अंदर लड़े रहे इन ग्रहों को शांत कर देंगे तो बाहर के ग्रह हमे कोई हानि नही पहुँचायेंगे आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 246

फिजा में महक बिखरने दो मासूम बचपन को खिलखिलाने दो धूप मे पांव जलाने से पहले इन नन्हे कदमों को छलांगें लगाने दो आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

प्रेरक कहानी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 370)

साँझ ढले एक आदमी ने अंधकार मिटाने के लिये अपने घर मे छ: मॉमबतियॉ जलाई व बाहर चला गया । पहली मोमबत्ती जो जज़्बात की प्रतीक थी उसने कहा कि मेरी यहॉ कोई कीमत नही है जलकर क्या करूँ और वह बुझ गई । उसे देखकर दूसरी मोमबती जो शांति का प्रतीक थी उसने कहा…