परंपराये # जिंदगी की किताब (पन्ना # 377)

परम्परायें …. एक अंधे दम्पत्ति थे ,जो मिलकर सब कार्य आसानी से कर लेते थे । लेकिन सबसे बडी परेशानी तब होती थी ,जब अंधी पत्नी खाना बनाती और कुत्ता आकर रोटी खा जाता । इस वजह से रोटियां या तो कम पड़ जाती या खाने को नही मिलती । तब अंधे पति को एक…

Quote # 268

दोस्तो किसी को दुआ नही तो बददुआये भी मत देना क्योकि प्रकृति का नियम है कि जो हम देंगे वही लौटकर हमारे पास आने वाला है । आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

Quote # 266

किन साँसों पर एतबार करूँ जो अंत में मेरा साथ छोड जायेगी किस धन का अंहकार करूँ जो अंत में मेरे प्राणों को बचा नहीं पायेगी किस तन पर अंहकार करूँ जो अंत में मेरी आत्मा का बोझ भी नहीं उठा पाएगा डरना है तो ईश्वर से डर जिसकी अदालत में वकालत नहीं होती और…

Quote # 265

प्रभु से राग कोई बारिश का नाम नहीं, जो बरसे और थम जाए प्रभु से राग सूरज भी नहीं जो चमके और डूब जाए बल्कि प्रभु से राग हर श्वास पर है जो चले तो जिदंगी चले और रूके तो मौत बन जाए आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

पूत के पाव पालने मे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 375)

प्रेरक प्रसंग …… कहते है ना पूत के पाव पालने मे नजर आते है । ऐसा ही एक प्रसंग है ….. एक व्यक्ति के तीन बच्चे जो अलग अलग प्रवृति के थे ,उनके भविष्य को लेकर वह काफी चिंतित था । उसे समझ नही आ रहा था कि उन्हें किस दिशा मे बढ़ने के लिये…

Quote # 254

आग्रह,हठाग्रह ,मताग्रह,कदाग्रह,मिथ्याग्रह,दुराग्रह,सत्याग्रह ,परिग्रह आदि अपने अंदर लड़े रहे इन ग्रहों को शांत कर देंगे तो बाहर के ग्रह हमे कोई हानि नही पहुँचायेंगे आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quotes # 252

धन की तीन गतियॉ है दान , भोग और नाश जो धन देता नही , भोगता नही उसकी तीसरी गति धन का नाश हो जाती है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 250

बेटी मेरा अभिमान है ,बहू मेरा बहुमान है बेटी रौनक व अंश है ,बहू इज़्ज़त और कुल वंश है बेटी ऑंखो का तारा है ,बहू का मुख है चॉद मेरा बेटी मेरा सौभाग्य है ,बहू अहोभाग्य है बेटी घर की रानी है ,बहू के सर लक्ष्मी ताज है एक आज है ,एक कल है मेरा…

Quote # 249

भले ही सभी को सुख देने की क्षमता हमारे हाथ मे न हो किन्तु किसी को दुख न पहुँचे वह तो हमारे हाथ मे है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 246

फिजा में महक बिखरने दो मासूम बचपन को खिलखिलाने दो धूप मे पांव जलाने से पहले इन नन्हे कदमों को छलांगें लगाने दो आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 244

सबसे खूबसूरत लम्हा जब आपका परिवार आपको दोस्त समझने लगे और आपका दोस्त आपको अपना परिवार आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

तजुर्बा # जिंदगी की किताब (पन्ना # 371)

उच्चतम् न्यायालय के न्यायाधीश, जो परिवारिक झगडे़ सुलझाने वाले न्यायालय से सम्बंधित थे, उन की 10 सलाहें। 1. अपने बेटे और पुत्र वधु को विवाह उपरांत अपने साथ रहने के लिए उत्साहित न करें, उत्तम है उन्हें अलग, यहां तक कि किराये के मकान में भी रहने को कहें, अलग घर ढूँढना उनकी परेशानी है। आप और बच्चों के…