Quote #

नाराज न होना कभी यह सोचकर कि काम मेरा और नाम किसी का हो रहा है घी और बाती सदियों से जलते चले आ रहे है और लोग कहते है कि दिया जल रहा है। आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google Advertisements

Quote #

प्रेम वो अमृत है जो इन्सान को कभी मुरझाने नहीं देता और नफ़रत वो जहर है ,जो इन्सान को कभी खिलने नही देता आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

झुकोगे तो मजबूत बनोगे अकड़ोगे तो टूट जाओगे आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

स्त्री यानी “अगरबत्ती” जिसमें आग भी है, धीरज भी है सहनशीलता भी है स्वयं को धीरे धीरे जलाकर अपने परिवार को सुगंधित करने की ताकत भी है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

Quote #

कोहरे से एक बहुत अच्छी सीख मिलती है कि जिंदगी में जब कोई रास्ता नजर ना आ रहा हो तो बहुत दूर तक देखने की कोशिश करने की बजाय एक एक कदम चलते चलो ,रास्ता स्वयं खुलता जाएगा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 397

जो बहन मायके मे भाई के साथ भाभी को भी इज्जत व स्नेह देती है , भाभी के संग सखी बनकर बतियाती है वहॉ उसका कई गुना प्यार तो बढ़ता ही है साथ मे उसके आने का सुनकर भाभी के चेहरे पर इंतजार के साथ मुस्कान के फूल भी खिलने लगते है आपकी आभारी विमला…

Quote # 392

श्तो को बेहतर व मधुर बनाने के लिये बहुत जरूरी है कि घर परिवार की बात घर मे ही सीमित रखे ना कि जगत ढिंढोरा पीटे वरना रिश्तो मे कडुवाहट तो आयेगी ही ,जग हँसाई और होगी आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

रक्षाबंधन # कविता# जिंदगी की किताब (पन्ना # 380)

आ रहा है रक्षाबंधन का त्योहार रिश्तों में मिठास घोलने टूटे रिश्तों को जोड़ने !! भाई बहन का रिश्ता है मछली और सरोवर जैसा है जब तक जियेंगे साथ रहेंगे !! त्योहार नही है सिर्फ महज धागों को बॉधने का त्योहार है जुड़ने और जोड़ने का !! अगर आ गई है रिश्तो मे दरार हो…

Quote # 387

जरुरत से ज्यादा मिले उसको कहते है नसीब सब कुछ होने पर भी जो रोता है उसको कहते है बदनसीब और जो थोडा कम पाकर भी हमेशा खुश रहे ,उसको कहते है खुशनसीब आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

रूचि(hobby)# जिंदगी की किताब (पन्ना # 378)

रूचि को लेकर परिवार मे तु तु मै मै …… 🌸दो व्यक्तियों की रुचि अलग-अलग हो सकती है। एक कुछ सोचता है, दूसरा कुछ सोचता है और दोनों जब अपनी-अपनी रुचि के अनुरूप एक दूसरे को चलाने पर आमादा हो जाते हैं तो झगड़ा हो जाता है। 🌸जैसी आपकी रुचि है वैसा आपको वातावरण मिले,…

Quote # 378

माँ बाप भले ही अनपढ़ क्यो ना हो लेकिन अपने बच्चों को शिक्षा और संस्कार देने की जो काबिलियत उनमे है वो दुनिया के किसी स्कुल मे नहीं आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 272

मेरी भावना …. अहंकार का भाव न रक्खूँ ,नही किसी पर क्रोध करूँ देख दूसरो की बढ़ती को , कभी न ईर्ष्या भाव धरूँ रहे भावना ऐसी मेरी , सरल सत्य व्यवहार करूँ बने जहॉ तक इस जीवन मे,औरों का उपकार करूँ आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏