मॉ की याद # ( जिंदगी की किताब (पन्ना # 406)

जिनकी मॉ इस संसार मे नही है उनकी याद मे चंद पंक्तियाँ …. एक माँ जिसको सृष्टि ने सम्पूर्ण रचित किया है । चूँकि सृष्टि को रचने वाला जिसे हम भगवान कहते हैं,वह हर पल ,हर घर में उपस्थित नहीं हो सकता, अतः माँ को बनाकर वह इतना निश्चित हो गया कि उसने माँ को…