सुविचार # परिवार व रिश्ते # Quote #

किसी को गलत समझने से पहले एक बार उसके हालात समझने की कोशिश जरुर करों हम सही हो सकते है लेकिन मात्र हमारे सही होने से सामने वाला भी गलत नही हो सकता । आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏 Advertisements

परिवार रिश्ते # जागृति # Quote #

काम पड़ सकता है आधे रिश्ते तो लोग इसी वजह से निभा रहे है आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परिवार व रिश्ते # सुविचार # Quote #

रिश्ता वो नहीं होता जो दुनिया को दिखाया जाता है , रिश्ता वह होता है जिसे दिल से निभाया जाता है अपना कहने से कोई अपना नहीं होता, अपना वो होता है जिसे दिल से अपनाया जाता है आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परिवार व रिश्ते # सोच # कड़वी बात # Quote #

शीशा टूटने के बाद बिखर जाए वो ही बेहतर है क्यों की दरारे ना जीने देती है और ना ही मरने देती है… आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

कड़वी बात # जिन्दगी # जागृति # Quote #

नीम बात जरूरत है यदि आपको किसी एक से शिकायत है तो उसे बात करने की … और ज्यादा से शिकायत है तो अपनेआप से बात करने की … आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परिवार व रिश्ते # जागृति # Quote #

दूरियों का गम नहीं अगर फ़ासले दिल में न हो नज़दीकियां बेकार है अगर जगह दिल में ना हो आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परिवार व रिश्ते # संबंध # जागृति # Quote #

संबंध कभी भी सबसे जीतकर नहीं निभाए जा सकते संबंधों की खुशहाली के लिए झुकना होता है,सहना होता है दूसरों को जिताना होता है और स्वयं हारना होता है सच्चे सम्बन्ध ही जीवन की वास्तविक पूँजी है आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदान🙏🙏

परिवार व रिश्ते # सच बात # Quote #

अपेक्षा और उपेक्षा ये दोनो ऐसी भावनायें है जो मजबूत से मजबूत रिश्ते की नींव को भी हिला सकती है आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परिवार व रिश्ते # जागृति # Quote #

रिश्तो मे कुछ ऐसा ही है किसी को बार बार समझाकर अपना वक्त व एनर्जी खर्च करने का कोई मतलब नही जिसको समझना होगा ,उसके लिये आपका एक बार कहा हुआ भी काफी होगा आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

परिवार व रिश्ते # माता पिता # प्रेरणादायी कहानी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 425)

परिवार व रिश्ते …. फ़ोन की घंटी तो सुनी रचना ने ,….. मगर आलस की वजह से रजाई में ही लेटी रही … हारकर उसके पति राहुल को उठना ही पड़ा। दूसरे कमरे में पड़े फ़ोन की घंटी बजती ही जा रही थी….इतनी सुबह कौन हो सकता है जो सोने भी नहीं देता, इसी चिड़चिड़ाहट…