Quote # 380

औरत हूँ मैं सब सम्भाल लेती हूँ चाहे आँगन की रंगोली हो या दफ्तर की फाइल हो परिवार का टेंशन हो या दुनियादारी का मेंशन हो साड़ी का पल्लू बाँध कर भी औरत हूँ मै सब संभाल लेती हूँ Pls like and share my fb page https://m.facebook.com/rangiloodesh/ Thanks आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏…

Quote # 377

बहुत खुशनसीब है वो पत्नी जिसका पति उसके सपने को साकार करने मे प्रोत्साहित करने के साथ उसकी मदद भी करता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

नारी हूँ व अपने अंदाज से सजना संवरना है मुझे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 372)

नारी हूँ व अपने अंदाज से सजना संवरना है मुझे हर नारी खूबसूरत दिखने के लिये सजना संवरना चाहती है । मै भी नारी हूँ व खूबसूरत दिखना चाहती है पर अपने अंदाज व अपनी शर्तो पर,अपनी संतुष्टि के लिए । मै खूबसूरत लगना चाहती हूँ पर दूसरों की अपेक्षाओं पर बने रहने के लिए,…

Quotes # 205,206,207,208,209,210,211,212,213,214

किसीभीलड़कीकोवहचाहेविवाहितहोयाअविवाहितछेड़नापापहै …. आजकलआधुनिकजमानेमेबिंदीवसिंदूरलगानेकीपरंपरागुलहोतीजारहीहैजोविवाहितहोनेकोभीदर्शातीहै …..इसपोस्टकाआशयइसपरंपराकोजीवितरखनाहै आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 all picture taken from google

दर्द का अहसास # जिंदगी की किताब (पन्ना # 366)

दर्द का अहसास….. आज गुड़िया शादी के बाद पहली बार ससुराल से मायके मे कुछ दिनों के लिये आ रही थी ,पूरे घर मे चहल पहल थी ।इकलौता भाई बाहर से उसकी मनपसंद की वस्तुये ला रहा था ,तो भाभी उसके पसंद की खाने की चीज़ें बना रही थी । ट्रेन आने के समय से…

नारी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 358)

देख नारी की हालत ,छलनी हो जाता है सीना , पैसा ,पद के दम पर,नारी की आबरू को छीना पैसो के जो लालची , सौदेबाज़ी करते ना थकते जैसे लडकी तो गुडिया है , खाने की पुडिया है बनते फिरते दु:शासन ,आज चीर सब हरते मॉ का मान भूल गये , अय्याशी मे डूब गये…

हर गृहिणी की हक़ीक़त # जिंदगी की किताब (पन्ना # 354)

रात को सोने से पहले रसोई को देखना है , सब कुछ ठीक से तो रखा है फ्रिज मे सामान तो रख दिया है ,कही बाहर गर्मी मे खराब ना हो जाये दही ज़माना या सुबह के लिये चना राजमा छोले भिगौने है सुबह अलार्म बजते ही सबसे पहले रसोंई का दरवाज़ा दिखता है ।…

घर घर की कहानी ,सास बहू की जुबानी# जिंदगी की किताब (पन्ना # 352)

घर की कहानी ,सास बहू की जुबानी ….. picture taken from google शादी को कुछ ही समय हुआ । आज काम के लिये महरी नही आई इसलिये शीलू बरतन धोने लगी । धोते धोते उसके हाथ से कॉच का कप नीचे गिरकर टूट गया । कप टूटते ही वह डरने लगी कि उसकी सास अब…

हैपी परिवार# जिंदगी की किताब (पन्ना #345)

हैपी परिवार ❤️ कानून से नही अनुशासन से बनता है हैपी परिवार ❤️ भय से नही भरोसे से बनता है हैपी परिवार ❤️ शोषण से नही पोषण से बनता है हैपी परिवार ❤️ आग्रह से नही आदर से बनता है हैपी परिवार ❤️ वर्चस्व रखने से नही समर्पण से बनता है हैपी परिवार ❤️ अपेक्षा…

जयसच्चिदानंद 🙏🙏 नारी एक , निभाती किरदार अनेक हॉ मै नारी हूँ मै , जग का मूल हूँ कोमलता का फूल हूँ मै लक्ष्मी बनकर घर को बनाती और सँवारती है अन्नपूर्णा बनकर भोजन बनाती है गृहलक्ष्मी बन कर कुटुम्ब सम्भालती है सरस्वती बन कर बच्चों को संस्कारों का पाठ पढ़ाती है दुर्गा बनकर संकटों…

Quote # 112

Happy women’s day 💃🏼💃🏼💃🏼💃🏼💃🏼