नारी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 393)

❤️ नारी को जेवर, कपडे, धन दौलत नही बल्कि सहानुभूति , सम्मान,बिना कहे समझने वाला हमसफ़र का प्यार चाहिये ❤️ मित्र की तरह बतियाने वाला ,अकेलापन दूर करने वाला व महत्व देने वाला सच्चा साथी चाहिये ❤️ तन , मन से थकहार कर बैठे तब तारीफ के साथ दो मीठे बोल बोलने वाला एक प्यारा…

Quote # 276

मायका मतलब मॉ बाप भाई बहन के साथ पुराने दिनों को तरोताजा करने की वो जगह जिसकी खुशी कीमत से नही ऑकी जाती है बल्कि अहसासों से महसूस की जाती है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

नर हो या नारी हो उतनी ही इज्जत दो जहाँ तक सही हो ज्यादा सम्मान की या नारीवादिता में दबोगे सामने वाला बैंड बजायेगा पहले खुद का आत्मसम्मान फिर सामने वाले का सम्मान आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

Quote #

स्त्री यानी “अगरबत्ती” जिसमें आग भी है, धीरज भी है सहनशीलता भी है स्वयं को धीरे धीरे जलाकर अपने परिवार को सुगंधित करने की ताकत भी है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

रिश्ते # जिंदगी की किताब (पन्ना # 382)

रिश्तो मे सिक्के का एक पहलू ऐसा भी ….. सौम्या की शादी के कुछ साल पहले उसकी मॉ की मृत्यु किसी लंबी बीमारी से हो गई थी । मायके मे बापू व भाई भाभी की छोटी सी दुनिया थी ।उसके घर की अच्छी reputation होने की वजह से उसकी शादी अच्छे खाते पीते घर के…

मॉ # जिंदगी की किताब (पन्ना # 379)

कितनी खूबसूरती से एक औरत ने जवाब दिया कि एक स्री की कोई जाति नही होती ,जब वह माँ बनती है क्योकि … 🌸जब वह अपने बच्चे का लालन पालन करती है और अपने बच्चे की गंदगी साफ करती है तो वो शूद्र हो जाती है । 🌸वही बच्चा बड़ा होता है तो मां बाहरी…

Quote # 380

औरत हूँ मैं सब सम्भाल लेती हूँ चाहे आँगन की रंगोली हो या दफ्तर की फाइल हो परिवार का टेंशन हो या दुनियादारी का मेंशन हो साड़ी का पल्लू बाँध कर भी औरत हूँ मै सब संभाल लेती हूँ Pls like and share my fb page https://m.facebook.com/rangiloodesh/ Thanks आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 377

बहुत खुशनसीब है वो पत्नी जिसका पति उसके सपने को साकार करने मे प्रोत्साहित करने के साथ उसकी मदद भी करता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google

नारी हूँ व अपने अंदाज से सजना संवरना है मुझे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 372)

नारी हूँ व अपने अंदाज से सजना संवरना है मुझे हर नारी खूबसूरत दिखने के लिये सजना संवरना चाहती है । मै भी नारी हूँ व खूबसूरत दिखना चाहती है पर अपने अंदाज व अपनी शर्तो पर,अपनी संतुष्टि के लिए । मै खूबसूरत लगना चाहती हूँ पर दूसरों की अपेक्षाओं पर बने रहने के लिए,…

Quotes # 205,206,207,208,209,210,211,212,213,214

किसीभीलड़कीकोवहचाहेविवाहितहोयाअविवाहितछेड़नापापहै …. आजकलआधुनिकजमानेमेबिंदीवसिंदूरलगानेकीपरंपरागुलहोतीजारहीहैजोविवाहितहोनेकोभीदर्शातीहै …..इसपोस्टकाआशयइसपरंपराकोजीवितरखनाहै आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 all picture taken from google

दर्द का अहसास # जिंदगी की किताब (पन्ना # 366)

दर्द का अहसास….. आज गुड़िया शादी के बाद पहली बार ससुराल से मायके मे कुछ दिनों के लिये आ रही थी ,पूरे घर मे चहल पहल थी ।इकलौता भाई बाहर से उसकी मनपसंद की वस्तुये ला रहा था ,तो भाभी उसके पसंद की खाने की चीज़ें बना रही थी । ट्रेन आने के समय से…