Quote #

नारी हूँ मै ,अपनों के लिए जीती हूँ सबको खुश रखने की कोशिश करती हूँ शायद इसलिए अपनों के साथ ,दिल खोलकर मुस्कुराती हूँ पर उस मुस्कान के अंदर, मुझे रोना पड़ता है अपने आंसुओ से कभी-कभी,खुद को धोना पड़ता है Women Wo men से कम नही जिससे घर बनता है वह घरवाली जिसका गृह…

Quote #

इतने सस्ते भी नही बने कि लोग हमें नचाते रहे इतने महंगे भी ना बनें कि लोग हमे बुलाने से हिचकिचाए इतने नरम भी ना बने कि लोग हमें खा जाए इतने गरम भी ना बने कि दुनिया हमें छू भी न पाये इतना सरल भी ना बने कि लोग हमें मूर्ख बनाए और इतने…

Quote # 404

कैसे हो अच्छे इंसान की पहचान जब दोनो ही नक़ली हो गये ऑसू और मुस्कान आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏