Quote#

ज्ञान तीन प्रकार से मिलता है किताबों से – यह सबसे सरल है अनुभव से – यह सबसे कडवा है अंतर्मन से – यह सबसे श्रेष्ठ है आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏 Advertisements

Quote #

किराये की काया में बसेरा है मेरा रोज़ श्वासों को बेच कर कीमत चुकाता हूँ असल मे औकात है बस मिट्टी जितनी फिर भी बातें मैं महलों की कर जाता हूँ जल जायेगी एक दिन काया मेरी फिर भी इसकी खूबसूरती पर इतराता हूँ मुझे पता हे मैं खुद के सहारे श्मशान तक भी ना…

Quote #

क्षमा भाव निज मन मे रखकर, जो जीवनपथ पर चलता है, उसके शुभकर्मों का सूरज, कभी नहीं जग मे ढ़लता है जो अंधकार मे भटके हुओं को, देता निज हिस्से से उजाला चाहे कहीं भी रहे ,उसको मिल जाती है भगवन तुम्हारी छत्र छाया आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

ईश्वर न दंड देते है,न माफ करते है कर्मफल का तराजू इन्साफ करता है सुख दुःख का बटन हमारे हाथ में है जो हम खुद ही On करते है और खुद ही Off करते है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

जब देह ही सगी नही ,अंतिम समय मे दगा दे जाती है तो औरों से कैसा गिला शिकवा आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

कठोर सत्य # जिंदगी की किताब (पन्ना # 389)

कठोर सत्य …… जब कोई इंसान इस दुनिया से विदा हो जाता है तो जल्दी से जल्दी उसके अंतिम संस्कार के लिये सोचा जाता है । कोई भी उसके मृत शरीर को घर पर नही रखना चाहता । उसके बाद उसके कपड़े, बिस्तर, इस्तेमाल किये गये सभी सामान को तुरन्त घर से बाहर कर दिया…

Quote #

अच्छे संदेश सबको दो,लेकिन ज्ञान की बात उन्हे सुनाओ जो सुनने का आनंद लेते है क्योकि अमूल्य हीरा पहचानना हर किसी के बस मे नही होता है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote #

कभी भी इस बात की गिनती ना करना कि कितने शास्त्र पढ़े , कितने तीर्थ गये , कितने मंदिर गये बल्कि ये सोचना कि तीर्थों की यात्रा मे कितने गहरे उतरे , अपने भीतर बैठे परमात्मा को कितना पहचाना । जीवन मे कितनी प्रसन्नता आई । आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

पर्यषण पर्व # जिंदगी की किताब (पन्ना # 385)

कर्म खपाने का श्रेष्ठ पड़ाव पर्व पर्युषण 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 उपवास में कमीं रह भी जाए तो.. उपहास से अवश्य बचना, दर्शन में कमीं रह भी जाए तो… प्रदर्शन से अवश्य बचना, वन्दन में कमीं रह भी जाए तो.. बंधन से अवश्य बचना, प्रवचन श्रवण में कमीं रह भी जाए तो… दुर्वचन से अवश्य बचना, केश लोचन…

Quote # 275

दर्पण कभी झूठ नही बोलता प्रेम कभी ईर्ष्या नही करने देता आध्यात्मिक ज्ञान आकुल नही होने देता सत्य कभी कमजोर नही होने देता विश्वास दुखी नही होने देता कर्म कभी असफल नही होने देता आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Quote # 237

क़ुदरत का नियम है कि किसी के द्वारा मिले मान पर उससे जितना राग होगा ,उतना ही उसके द्वारा मिले अपमान पर उससे द्वेष हो जायेगा इसीलिये … किसी के दिये गये मान के लड्डू को सोच समझकर खाना क्योकि यह खाने मे जितना मीठा लगेगा उतना ही उसके द्वारा दिया गया अपमान काघूँट कडवा…