परिवार और रिश्ते # जागृति # Quotes #

आज मैने परछाईं से पूछ ही लिया

क्यो चलती हो …हमेशा साथ

उसने भी दिया हँसकर जवाब

और कौन है …तेरे साथ ?


आप किसी को इतना भी “भाव” ना दो कि

वो आपको “रद्दी के भाव” समझने लगे


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानन्द 🙏🙏