परिवार और रिश्ते # जागृति # कडवी बात # Quotes #

आज के समय में मधुर सम्बंध एक मृग मरीचिका की तरह लगते हैं l आज हर इंसान यह सोचकर सम्बंध बना रहा है कि मुझे इसके साथ सम्बंध बनाकर क्या फायदा मिलेगा l


खुशी के लिए बहुत कुछ इकठ्ठा करना पड़ता है….ऐसी हमारी समझ है

किन्तु हकीकत में खुशी के लिए बहुत कुछ छोड़ना पड़ता है …ऐसा अनुभव कहता है


परिस्थति को एक जैसा रखना हमारे हाथ में नहीं है …पर मनःस्थिति को रखना अपने हाथ में है


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏