अनमोल विचार # रिश्ते # Quotes #

पैर को लगने वाली चोट संभल कर चलना सिखाती है

और मन को लगने वाली चोट समझदारी से जीना सिखाती हैं,

चोट कहीं की भी हो ,सीखा बहुत देती है


किसी की मजबूरियों पर ना हँसिये,

कोई मजबूरियाँ ख़रीद कर नहीं लाता

डरिये वक्त की मार से ,

बुरा वक्त किसी को बताकर नहीं आता


सारी उम्र बस एक ही सबक याद रखना

दोस्ती,सम्बंध,और दुआ में नियत साफ रखना


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानन्द 🙏🙏

Only photo taken from google