सुविचार # अनमोल बाते # Quotes #

जिस शरीर से परमात्मा की सेवा करते हो उसे गंदा मत करो

जिस नज़र से परमात्मा का दीदार करते हो उसे नेक और पवित्र रखो

जिस कानों से परमात्मा की मीठी वाणी सुनते हो उनमे अपवित्रता मत डालो

जिस मन को ध्यान में लगाते हो , उसे दुनिया के ख्यालो में मत लगाओ

फिर देखो उसकी रहमत की कैसी बारिश होती है


कहीं मिलेगी जिंदगी में प्रशंसा तो

कहीं नाराजगियों का बहाव मिलेगा

कहीं मिलेगी सच्चे मन से दुआ तो

कहीं भावनाओं में दुर्भाव मिलेगा

तू चलाचल राही अपने कर्मपथ पे

जैसा तेरा भाव वैसा प्रभाव मिलेगा


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏