अनमोल बाते # जागृति # Quotes #

बारिश की साधारण बूँद भी इतनी शक्ति रखती है कि आसोज महीने के स्वाति नक्षत्र में

हाथी के मुख में गिरकर उसके सिर में अनमोल गजमोती बन जाती है

सीप में गिरकर मोती बन जाती है

बास की जड़ में गिरकर वंशमुक्ता बन जाती है

सुअर के मुख में जाकर शूकरमुक्ता बन जाती है

सॉप के नाक में जाकर नागमणि बन जाती है

वहीं नाग के मुख में जाकर ज़हर बन जाती है

इसीलिये किसी भी इंसान को साधारण ना समझो

समय, संजोग, क्षैत्र,अनुकूलताओं के आधार पर कब विशेष बन जाये कहॉ नहीं जा सकता


इन्सान हमेशा तकलीफ में ही कुछ सीखता है,

खुशी में तो वो पिछले सबक भी भूल जाता है..


जीवन में हमेशा एक दूसरे को समझने का प्रयत्न करो परखने का नहीं


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानन्द 🙏🙏

Advertisements