अनमोल विचार # Quote #

जो कह दिया,

वह शब्द थे

जो नहीं कह सके,

वह अनुभूति थी

और

जो कहना है,

फिर भी नहीं कह सकते.

वह मर्यादा है.


जेब का वजन बढ़ाते बढ़ाते

अगर रिश्तों का वजन घटने लगे

तो समझ लेना

कि सौदा घाटे का ही है


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानन्द 🙏🙏

Advertisements