सच्ची कड़वी बात # Quote #

कलयुग है साहब , सभी कुछ संभव है

तभी तो समय के साथ लोगों की बेइज़्ज़ती करने का तरीक़ा भी बदल गया है

1990 – समाज से निकाल दो

2010 – घर से निकाल दो

2019 – ग्रुप , सॉशियल मीडिया मे ब्लॉक कर दो


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏