परिवार व रिश्ते # जागृति # Quote #

अगर मैं सोचूं कि मुझे किसी की भी ज़रूरत नहीं

तो ये मेरा ‘अहम’ है

और अगर मैं सोचूं कि सबको मेरी ज़रूरत है

तो ये मेरा ‘वहम’ है

सच तो ये है

हम तुम से, तुम हम से

हम सब एक दूजे से हैं


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements