परिवार व रिश्ते # जागृति # Quote-#

किसी के आँसू पोंछने के लिए ये तीनों शब्द काफ़ी है

” मैं हूँ ना “


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements