सुविचार # जागृति # Quote #

सी भी व्यक्ति की सहनशीलता ,एक खिंचे हुए रबड़ की तरह है

जिसका एक सीमा से ज्यादा खिंचे जाने पर टूटना तय है


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏