Quote #

किस हद तक जाना हैं

ये कौन जानता हैं

किस मंजिल को पाना हैं

ये कौन जानता हैं

जिंदगी के दो पल

जी भर के जी लो साथियों

किस रोज़ बिछड जाना हैं

ये कौन जानता हैं


आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements