जिन्दगी क्या है # जिंदगी की किताब (पन्ना # 394)

जिंदगी क्या है ? कवियत्री मुक्ता सिंह जी की कविता दिल को छू गई । उन्होने बहुत ही खूबसूरती से कुछ पंक्तियाँ मे जिंदगी क्या है , बख़ूबी दर्शाया है ….. कभी-कभी मन में उठता है ये सवाल, जिंदगी क्या है ? क्या ये ईश्वर का दिया अनमोल तोहफा है, या है उलझनों से भरा…

Quote #

कभी नमक सी जिंदगी कभी नीम सी जिन्दगी मै ढूँढता रहा जिन्दगी भर शहद सी जिन्दगी ना शौक़ बडा दिखने का ना तमन्ना भगवान बनने की बस एक आरजू जन्म सफल हो कोशिश इंसानियत रखने की आपकीआभारी विमला विल्सन मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏