शरद पूर्णिमा # जिंदगी की किताब (पन्ना # 390)

हिंदू संस्कृति में आश्रि्वन मास की पूर्णिमा का अपना विशेष महत्व है। इसे शरद पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है।

शरद पूर्णिमा को आनंद उल्लास का पर्व माना जाता है। इस पर्व का धार्मिक वैज्ञानिक महत्व भी है।

पूर्णिमा को चंद्रमा पृथ्वी के सबसे निकट होता है जिससे चंद्रमा के प्रकाश की किरणें पृथ्वी पर स्वास्थ्य की बौछारे करती हैं।

इस दिन चंद्रमा की किरणों में विशेष प्रकार के लवण विटामिन होते हैं। कहा जाता है कि इस दिन चंद्रमा की किरणों से नाग का विष भी अमृत बन जाता है।ऐसी भी मान्यता है कि प्रकृति इस दिन धरती पर अमृत वर्षा करती है।

इस दिन खीर का विशेष महत्व है यह परंपरा विज्ञान पर आधारित है ।ऋषिमुनियों ने शरद पूर्णिमा की रात्रि में खीर खुले आसमान में रखने का विधान किया है क्योकि दूध में लैक्टिक अम्ल और अमृत तत्व होता है। यह तत्व किरणों से अधिक मात्रा में शक्ति का शोषण करता है।चावल में स्टार्च होने के कारण यह प्रक्रिया और आसान हो जाती है।

शोध के अनुसार खीर को चांदी के पात्र में बनाना चाहिए। चांदी में प्रतिरोधकता अधिक होती है। इससे विषाणु दूर रहते हैं। चांदी पात्र की अनुपस्थिति में मिट्टी की हांड़ी में खीर बनाना चाहिए

इस खीर में हल्दी का उपयोग नहीं करना चाहिए है। स्टील के बर्तन में चाँदी का टुकड़ा डालकर भी खीर बनायी जा सकती है , प्रत्येक व्यक्ति को कम से कम 30 मिनट तक शरद पूर्णिमा का स्नान करना चाहिए।

शरद पुर्णिमा को रातभर चाँदनी के नीचे चाँदी के पात्र में रखी खीर सुबह खाई जाती है, यह खीर विशेष ठंडक पहुंचाती है

रात्रि 10 से 12 बजे तक का समय उपयुक्त रहता है। जितना ज्यादा चंद्रमा के प्रकाश में रह सके उतना ही अच्छा है वैसे चंद्रमा के प्रकाश से सबसे ज्यादा लाभ चंद्रमा के ऊपर त्राटक करते हुए (यह भावना करते हुए की चंद्रमा का प्रकाश मेरे मन, मस्तिष्क को शीतलता और संतुलन प्रदान कर रहा है ) प्राप्त किया जा सकता है

शरद पूर्णिमा की रात को चंद्रमा का पूजन कर भोग लगाया जाता है, जिससे आयु बढ़ती है चेहरे पर कान्ति आती है , एवं शरीर स्वस्थ रहता है।

यह पर्व स्वास्थ्य, सौंदर्य उल्लास बढ़ाने वाला माना गया है। रात्रि जागरण के महत्व के कारण ही इसे जागृति पूर्णिमा भी कहा जाता है , इसका एक कारण रात्रि में स्वाभाविक कफ के प्रकोप को जागरण से कम करना हैI

शरद पूर्णिमा का लाभ बच्चे से बूढों सभी लोगों को जरूर उठाना चाहिए , यह मौका साल में सिर्फ एक बार आता है।


आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

picture taken from google