पर्यषण पर्व # जिंदगी की किताब (पन्ना # 385)

कर्म खपाने का श्रेष्ठ पड़ाव पर्व पर्युषण

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

उपवास में कमीं रह भी जाए तो..

उपहास से अवश्य बचना,

दर्शन में कमीं रह भी जाए तो…

प्रदर्शन से अवश्य बचना,

वन्दन में कमीं रह भी जाए तो..

बंधन से अवश्य बचना,

प्रवचन श्रवण में कमीं रह भी जाए तो…

दुर्वचन से अवश्य बचना,

केश लोचन नहीं भी कर सकें तो..

क्लेश लोचन अवश्य करना,

प्रतिकमण में कमीं रह भी जाए तो…

अतिक्रमण से अवश्य बचना,

क्षमा मांगने में कमीं रह भी जाए तो..

प्राणी मात्र को क्षमा अवश्य करना,

🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏


आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements