Quote # 397

जो बहन मायके मे भाई के साथ भाभी को भी इज्जत व स्नेह देती है , भाभी के संग सखी बनकर बतियाती है वहॉ उसका कई गुना प्यार तो बढ़ता ही है साथ मे उसके आने का सुनकर भाभी के चेहरे पर इंतजार के साथ मुस्कान के फूल भी खिलने लगते है आपकी आभारी विमला…