Quote # 394

माखन चोर नंद किशोर बॉधी जिसने प्रीत की डोर मथुरा की खुशबू,गोकुल का हार वृंदावन की सुगंध,बृज का फुहार राधा की उम्मीद और कन्हैया का प्यार मुबारक हो आप सबको जन्माष्टमी का त्योहार आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google Advertisements

जिंदगी की किताब (पन्ना # 383)

जन्माष्टमी का पर्व आया, तन मन को महकाया !! एक वर्ष से आये हो तुम ,हर्षोल्लास को लाये हो !! हर्ष , खुशी है सबके मन मे ,आओ पधारो मेरे मन मन्दिर !! खुशी से पर्व मनाते हुये , करे कन्हैया के गुणों का बखान अपनाये उनके गुणों की खान , हो जाये इस भवसागर…