Quote# 273

नानी के घर जाना है ,सुनकर मन हर्षित हो जाता है नानी जैसा प्यार दुलार ,कहॉ और मिल पाता है सबकी डांट से भी बचाती,करने देती है मनमानी नई नई कहानियॉ सुनाती,अच्छे-अच्छे पकवान खिलाती अच्छी बाते सिखलाती,साथ मे कोई बड़ी सीख दे जाती गलतियों को सुधार कर ,वह हमे बेहतर बनाती माँ तो प्यारी है…