Quote # 266

किन साँसों पर एतबार करूँ जो अंत में मेरा साथ छोड जायेगी

किस धन का अंहकार करूँ जो अंत में मेरे प्राणों को बचा नहीं पायेगी

किस तन पर अंहकार करूँ जो अंत में मेरी आत्मा का बोझ भी नहीं उठा पाएगा

डरना है तो ईश्वर से डर

जिसकी अदालत में वकालत नहीं होती

और यदि सजा हो जाये तो जमानत नहीं होती


आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

picture taken from google

Advertisements