Quote # 256

चार प्रकार के आंसू बड़े दुर्लभ है

पाप करने के बाद निकलने वाले वेदना के आँसू

दुख से आहत होकर निकलने वाले संवेदना के आँसू

अपने प्रिय से बिछड़ने के बाद निकलने वाले विरह के आँसू

प्रभु भक्ति मे निकलने वाले प्रेम के आँसू


आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

picture taken from google

Advertisements