परिवार व रिश्ते # जागृति # Quotes

दुआ क़बूल करो हे भगवन मॉ बापू हमारे सलामत रहे नन्हें बच्चों की फरियाद माँ पिता तुम बिन मेरा वज़ूद नहीँ मेरा जीवन महफूज नही इतना कोई अमीर नही कि बिना किसी की मदद के जी सके इतना कोई गरीब नही कि किसी की मदद ना कर सके आप कभी भी अपनी personal private बात…

जिन्दगी # जागृति # Quotes

प्रेम वह नही है जो movie मे देखते है खुद को साफ करो व सामने वाले को माफ करो यही है प्रेम की अभिलाषा बड़े प्यारे होते हैं वो रिश्ते जहॉ ना गिला हो, ना शिकवा हो ना अपेक्षा हो, ना उपेक्षा हो, न अहम हो, ना वहम हो सिर्फ अपनेपन का ही मरहम हो…

सुविचार # जिन्दगी # Quotes

अगर आप working woman नही है तो आप अपना परिचय house wife कहकर ना दे । क्योंकि आपकी शादी घर के साथ नही हुई है ।आप तो घर की रानी है इसलिये अपना परिचय house queen कहकर दे हमारे सम्मान मे कहे जाने वाले शब्द वो नही है जो हमारे सामने बोले जाते है बल्कि…

प्रार्थनाये # सुविचार # Quotes

रात को सोते समय ये प्रार्थना ज़रूर करे हे भगवन जिन्दगी भर मैंने अपने लिये मॉगा है आज मै परमार्थ के लिये तुझसे मॉगता हूँ ,चाहे मेरी प्रार्थना तुझ तक पहुँचे या ना पहुँचे 1. बचपन मे किसी भी बच्चे की मॉ ना छिन जाये 2. युवा उम्र मे किसी भी स्री का अपने पति…

मॉ # रिश्ते # Quotes

बारिश मे छाते जैसी है शीतलता मे चॉदनी जैसी है चले तो हवा जैसी है वो मॉ ही है जो धूप मे भी छॉव जैसी है आजकल के रिश्तो से तो अच्छी मोबाइल की battery है जो कम से कम ख़त्म होने से पहले warning को देती है रिश्तो मे ना रखा करो हिसाब नफ़े…

जिन्दगी की भागदौड़ # जिंदगी की किताब (पन्ना # 369)

🔸ज़िन्दगी की भागदौड़ में उम्र कैसे बीत गई पता ही नही चला यारों 🔸उंगली पकड़ कर चढ़ने वाले बच्चे कंधे तक कब आ गए पता ही नहीं चला 🔸साइकिल के पैडल ,स्कूटर की किक मारते मारते कैसे कारों में सैर करने लगे पता ही नहीं चला 🔸कभी हम थे माँ बाप की जिम्मेदारी, आज हम…

हाथ से भोजन करने का वैज्ञानिक कारण # जिंदगी की किताब (पन्ना # 368)

आजकल कई लोग पाश्चात्य सभ्यता का अनुकरण करते हुये हाथ से भोजन करने की बजाय चम्मच कॉटे छुरी का इस्तेमाल करते है व इसमे अपनी शान समझते है । लेकिन हमारे बुज़ुर्ग लोगो ने भोजन करने के लिये चम्मच कांटे की बजाय हाथ से भोजन करने को ज्यादा महत्व दिया । हाथ से भोजन करने…

आओ कुछ ऐसा करे # जिंदगी की किताब (पन्ना # 367)

प्रेरक कथा आओ कुछ ऐसा करे …. रामू मिल का चौकीदार था ,उसकी ये खासियत थी कि वह मिल मे काम करने वाले हर व्यक्ति को कभी भी आते जाते समय good morning या good night या सलाम , नमस्ते जरूर करता ,चाहे वह आदमी कोई भी पद पर हो । उसका ऐसा heartily बोलना…

दर्द का अहसास # जिंदगी की किताब (पन्ना # 366)

दर्द का अहसास….. आज गुड़िया शादी के बाद पहली बार ससुराल से मायके मे कुछ दिनों के लिये आ रही थी ,पूरे घर मे चहल पहल थी ।इकलौता भाई बाहर से उसकी मनपसंद की वस्तुये ला रहा था ,तो भाभी उसके पसंद की खाने की चीज़ें बना रही थी । ट्रेन आने के समय से…

एक ऐसा डाईवॉर्स जिसके होने के बाद दिमाग ने नही दिल ने गवाही दी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 365)

आज कुछ काम से court मे जाना हुआ , वक़ील साहब के आने मे टाईम था । पास मे बैठे एक व्यक्ति ने बात करते समय बताया कि वह अपनी तलाक की पहली पेशी के लिये यहॉ आया है । तलाक का कारण सुनकर मैने कहा कि आप जैसा ही क़िस्सा मेरे अज़ीज़ दोस्त के…

मृत्युभोज के नाम एक संदेश # जिंदगी की किताब (पन्ना # 364)

🔸जिस घर मे पुत्र शोक पर क्रंदन कर रहे मॉ पिता वहॉ भोजन का निवाला तुम्हे कैसे भाता होगा ? 🔸जिस घर मे सूनी मॉग लिये रोती बिलखती विधवा युवती वहॉ बडे चाव से पंगत खाते हुये तुम्हे ज़रा भी पीड़ा नही होती ? 🔸जिस घर मे रक्षा सूत्र लिये बहना अपने भाई की याद…

बडे बुज़ुर्ग की जुबानी गुजरे जमाने की कहानी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 363)

बडे बुज़ुर्ग की जुबानी गुजरे जमाने की कहानी आज भी रूह को छू जाती है 🔘Black n white जमाने मे शर्म से ही चेहरा गुलाबी हो जाता था Parlour गये बिना ही चेहरा चमकाहट से भर जाता था जाने क्यो अब parlour जाकर भी वैसा चेहरा चमकाना मुश्किल हो जाता है 🔘Black n white जमाने…