Quote # 156,157,158,159

हे भगवन

मै मॉगू इतनी शक्ति

आधि ( मानसिक दुख )

व्याधि ( शारीरिक दुख )

उपाधि ( बाहर से आने वाले दुख )

मे भी समाधि के संग

करता रहूँ निरंतर तुम्हारी भक्ति

आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

इस दुनिया मे मेरे भी बहुत थे अपने लेकिन सच बेलने के नशे ने हमे लावारिस बना दिया

is duniya me merey bhi bahut they apane lekin sach bolnay ke nashe ne hamey lawaris bana diya

राहत भी अपनो से मिलती है ,

चाहत भी अपनो से मिलती है ,

अपनो से कभी नही रूठना क्योंकि ,

मुस्कराहट भी सिर्फ अपनो से मिलती है

raahat bhi apano se milti hai ,

chahat bhi apano se milati hai ,

apano se kabhi nahi roothana kyonki ,

muskaraahat bhi sirf apano se milti hai

क्यो कहना पड़ता है कि बेटी बचाओ , बेटी पढ़ाओ ?

क्यो दहेज के विरूद्ध आवाज उठानी पड़ती है ?

क्यो बेटियॉ को हर क्षैत्र मे बराबर का दर्जा देने के लिये नारा लगाना पड़ता है ?

इसका अर्थ बेटियॉ के साथ कही ना कही अन्याय हो रहा है ।

वाकई मे हर बेटी को अन्याय से बचाना चाहते हो तो इसके ख़िलाफ़ लड़ने के लिये शुरूआत हर एक को अपने घर से ही करनीपड़ेगी । हर घर सुधरेगा तो समाज सुधरेगा , समाज सुधरेगा तो देश सुधरेगा।

तभी हमारी बेटियॉ महफ़ूज़ रह पायेगी


आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s