खुशनसीब # साथ # Quote

ख़ुशनसीब है वो लोग जिनके दर्द मे उनके हमदर्द साथ होते है आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद Advertisements

दोस्त # Quote

सच्चे दोस्त हमे कभी गिरने नहीं देते, ना किसी की नजरो में और ना किसी के कदमो में आपकी आभारी विमला विल्सनजय सच्चिदानंद 🙏🙏

तजुर्बा # जिंदगी की किताब (पन्ना # 371)

उच्चतम् न्यायालय के न्यायाधीश, जो परिवारिक झगडे़ सुलझाने वाले न्यायालय से सम्बंधित थे, उन की 10 सलाहें। 1. अपने बेटे और पुत्र वधु को विवाह उपरांत अपने साथ रहने के लिए उत्साहित न करें, उत्तम है उन्हें अलग, यहां तक कि किराये के मकान में भी रहने को कहें, अलग घर ढूँढना उनकी परेशानी है। आप और बच्चों के…

यादे # जिन्दगी # बचपन # Quotes

स्कूल जाते समय सबसे ज्यादा रोना तब आता था जब रात भर तेज बारिश होती और school के समय बंद हो जाती थी जिन्दगी की आधी शिकायतें ऐसे ही ठीक हो जाये अगर लोग एक दूसरे के बारे मे बोलने की जगह एक दूसरे से बोलना सीख जाये आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

प्रेरक कहानी # जिंदगी की किताब (पन्ना # 370)

साँझ ढले एक आदमी ने अंधकार मिटाने के लिये अपने घर मे छ: मॉमबतियॉ जलाई व बाहर चला गया । पहली मोमबत्ती जो जज़्बात की प्रतीक थी उसने कहा कि मेरी यहॉ कोई कीमत नही है जलकर क्या करूँ और वह बुझ गई । उसे देखकर दूसरी मोमबती जो शांति का प्रतीक थी उसने कहा…

आध्यात्मिक बात # जागृति # Quote

क़ुदरत का नियम है कि किसी के द्वारा मिले मान पर उससे जितना राग होगा ,उतना ही उसके द्वारा मिले अपमान पर उससे द्वेष हो जायेगा इसीलिये … किसी के दिये गये मान के लड्डू को सोच समझकर खाना क्योकि यह खाने मे जितना मीठा लगेगा उतना ही उसके द्वारा दिया गया अपमान काघूँट कडवा…

परिवार व रिश्ते # Quotes

किसीभीलड़कीकोवहचाहेविवाहितहोयाअविवाहितछेड़नापापहै …. आजकलआधुनिकजमानेमेबिंदीवसिंदूरलगानेकीपरंपरागुलहोतीजारहीहैजोविवाहितहोनेकोभीदर्शातीहै …..इसपोस्टकाआशयइसपरंपराकोजीवितरखनाहै आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏 all picture taken from google

परिवार व रिश्ते # Quotes

रिश्तो की ख़ुशबू वही है जहॉ समर्पण व आस्था हो , एक दूसरे की हर पल कमी महसूस हो जुदाई की वेदना और मिलन का अहसास हो फिर चाहे वह प्रेम हो या प्रभु भक्ति हो संबंध बिखरने के तो लाख बहाने आओ जुड़ने के हम अवसर ढूंढे जरूरी नही हर कोई मिलकर खुश हो…

परिवार व रिश्ते # Quotes

जो व्यस्त थे वो व्यस्त ही निकले वक्त पर फालतू लोग ही काम आये दुःख में स्वयं की एक अंगुली आंसू पोंछती है और सुख में दसो अंगुलियाँ ताली बजाती है जब स्वयं का शरीर ही ऐसा करता है तो दुनिया से क्या गिला-शिकवा करना खुद मे खुदा को देखना ध्यान है दूसरो मे खुदा…