जन चेतना ,जन जाग्रति # जिंदगी की किताब (पन्ना # # 373)

आओ कुछ करे …..

अपना देश, अपने देशवासियो के लिये

हर प्राणी को संकल्प लेना होगा

जो कुछ बन पड़ता ,उसे पूरा करना होगा

जन जाग्रति, जन चेतना से नया

वातावरण बनाना होगा

उसमें कुछ परिवर्तन करना होगा

असहाय , निर्धनों को सहयोग देना होगा

अबलाओ को शोषण से मुक्त कराना होगा

विकलांगों , मंद बुद्धियो को गले लगाना होगा

भूखा नंगा ना रहे कोई ,उस पर विचार करना होगा

अनपढ़ को साक्षर बनाना होगा

बेघरो का घर बसाना होगा

बेरोजगार को रोजगार दिलाना होगा ।

आपकी आभारी विमला विल्सन

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements

4 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    Sahi kaha….ham viksit tabhi kahlaane ke hakdaar hain

    Liked by 1 person

    1. हॉ इन सब बातों के प्रति जागरूक होने से देश का विकास दिनों दिन बढ़ेगा ….. बहुत बहुत धन्यवाद

      Like

  2. pankajshashi says:

    बहोत खूब बहोत अच्छा लिखा हैं अपने

    Liked by 1 person

    1. बहुत बहुत शुक्रिया

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s