शादी का लड्डू खाया जाये ना खाया जाये # जिंदगी की किताब (पन्ना # 379)

शादी का लड्डू खाया जाये ना खाया जाये हमेशा कहा जाता है शादी का लड्डू खाये तो पछताये ना खाये तो पछताये पर शादी का लड्डू खाने के लिये नही बॉटने के लिये होता है पारिवारिक दूरियों को पाटने के लिये होता है । आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements

Quote # 46

At present how can you see the future if you live in the past ? Vimla wilson Mehta Jay sat chit anand 🙏🙏

अगर भगवान के पास मोबाइल होता तो # जिंदगी की किताब (पन्ना # 378)

अगर भगवान के पास मोबाइल होता तो .... भगवान के पास अनंत जीवो की अनंत शिकायतें है मंत्र है , प्रॉर्थनाये है , आयते है गिनी ना जाये उतनी ढेर सारी फाइले है अगर उस पर रख लिया हाथ मे मोबाइल तो माना कि वह सर्वस्व है ना ही किसी का खौफ रखेंगे लेकिन फिर... Continue Reading →

Quote # 45

कृपया अपनी राय से अवगत कराये , और भी कारण हो तो उससे बताये ।आपकी आभारी विमला विल्सनजय सच्चिदानंद 🙏🙏

सफाई किसकी ? # जिंदगी की किताब (पन्ना # 377)

सफाई किसकी ? हम सबका अपने शरीर की सफाई का ,वाहन की सफाई का ,घर , बंगला , आँफिस ,दुकान ,फर्नीचर , अलमारी , टेबल ....आदि सभी की सफ़ाई की और तुरंत ध्यान चला जाता है जो गलत भी नहीं है , साफ रखना वाजिब भी है । पर क्या कभी किसी और सफाई की... Continue Reading →

सभी से एक नम्र निवेदन # जिंदगी की किताब (पन्ना # 376)

सभी से एक नम्र निवेदन .....आज तक जितने लेख ,कविता या जो कुछ भी लिखा ,उसको आप सबने पसंद किया उसके लिये सभी को तहें दिल से शुक्रिया अदा करती हूँ । मेरा ज्ञान अपूर्ण है । जो कुछ भी आज के माहौल मे हो रहा है उसको देखकर या अपने मन मस्तिष्क मे उमड़ते... Continue Reading →

पति पत्नी की तकरार को कहो “लड़ाई या प्यार” # जिंदगी की किताब (पन्ना # 375)

पति पत्नी की तकरार को कहो “लड़ाई या प्यार” लड़ाई के लिये बात नहीं बतंगड चाहिये बिना वजह का बवंडर चाहिये मेरे घरवालों को ऐसा क्यों कहा ? मेरी इच्छाओ को पैसों से क्यों तौला ? सबके सामने वैसा क्यों बोला ? मॉ के जैसा क्यों बोला ? बेकार मे क्यों तनी रहती हो ?... Continue Reading →

Quote # 43

Good day to all divine soul Jiwan mein yadi laguta rakhangay toh prabhuta milegi Aur Prabhuta rakhangay toh prabhu dur milangay आपकी आभारी विमला विल्सन जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Blog at WordPress.com.

Up ↑