स्वयं पर भरोसे की चंद पंक्तियाँ –  जिंदगी की किताब (पन्ना # 318)

इधर उधर भटकने से अच्छा है , ख़ुद मे रह कर वक़्त बिताना  दूसरो को आईना दिखाने से अच्छा है , ख़ुद का आईना देखना इस दुनिया मे भेड़चाल चलने से अच्छा है , ख़ुद के साथ मजबूती से चलना दूसरो के घर के झाकने से अच्छा है , ख़ुद के भीतर झाँकना  तेरी, मेरी…

Quotes # 8

Good day to all divine souls … ईश्वर ने दूसरो को क्या दिया है ये देखने में हम लोग इतने व्यस्त हो जाते है कि ईश्वर ने हमे क्या दिया है वो देखना भूल ही जाते है । जय सच्चिदानंद 🙏🙏 आपकी आभारी विमला विल्सन मेहता  चित्र इंटरनेट से लिया है