हिंदी – जिंदगी की किताब (पन्ना # 296)

 Good day to all divine souls … चाहे हमे गँवार समझो , चाहे हमे पिछड़ा समझो  जो भी समझना है वो समझो  लेकिन हमने भी तय कर लिया  हम तो हिंदी ही लिखेंगे !! आपकी आभारी विमला मेहता  जय सच्चिदानंद 🙏🙏 Advertisements

विवाह करने का कारण -जिंदगी की किताब (पन्ना # 295)

आज विवाह के बारे मे कुछ कहना चाहूँगी ।  विवाह ऐसा बंधन है जिसे सभी खुशी से स्वीकारते है । विवाह के नाम से मन मे कुछ कुछ हलचल होने लगती है । यह अलग बात है कि शादी के बाद किसी को कितनी खुशी या दुख मिलता है ? इस लेख मे शादी के…