जिद -जिंदगी की किताब (पन्ना # 294)

ख़ुद को ही जीतना है 

ख़ुद को ही हराना है 

ना जाने ये कैसी जिद

जो सोचती है हर क़दम 

क्यॉ भीड़ हूँ मै इस दुनिया की ?

मेरे अंदर भी रचता बसता एक ज़माना है

उसे ज़ीने व पूरा करने का अफसाना है 

आपकी आभारी विमला मेहता 

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements

6 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    Sach …..mere andar bhi basta ek jamaanaa hai….bahut khub.

    Liked by 1 person

    1. बहुत बहुत धन्यवाद ,आपको अच्छा लगा

      Like

  2. बहुत ही खूब!!

    Liked by 1 person

  3. Raj says:

    Bahut sachchi baat kahi’n hai’n aapne

    Liked by 1 person

    1. आपको अच्छा लगा बहुत बहुत धन्यवाद

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s