चिट्ठियाँ – जिंदगी की किताब (पन्ना # 291)

वो भी क्या दिन थे जब हम चिट्ठियों के जरिये 
अपनी भावनाओं को स्याही मे डुबोकर व्यक्त किया करते थे । हर शब्दो मे अपनेपन की महक आती थी ,
 हालचाल जानने के लिये चिट्ठियाँ का इंतजार रहता था । 
पर आजकल के कॉम्पिटिशन वाले वैज्ञानिक युग मे 
व्यस्त जिंदगी होने के साथ मोबाइल ,इंटरनेट आदि की सुविधा होने पर 
चिट्ठियाँ का आदान प्रदान क़रीब क़रीब समाप्त हो चुका है । 
हालाँकि मोबाइल या फोन के जरिये 
एक दूसरे का हालचाल तुरंत मिल जाता है 
पर वो अपनेपन का अहसास नहा रहा ।

आपकी आभारी विमला मेहता 
जय सच्चिदानंद 🙏🙏

picture taken from google 

Advertisements

4 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    pratyek kal ki apni alag vishesta hai…..patra men jo bhav byakt kiya ja sakta hai mobile men kahan……..pandrah dino ka intejar phir kisi ke mithe bol shabdon men ankit….koyee tulna nahi….sach men ab utna apnapan kaha shayad paachwe aaraa kaa ye sab lakshan hai.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s