लफ़्ज़ # परिवार व रिश्ते

1. ‪घमंड किस बात का जनाब ?‬ ‪आज मिट्टी के ऊपर तो ,कल मिट्टी के नीचे‬ 🙏🙏 2. हमारी हस्तरेखा भी कितनी विचित्र है , होती तो हमारे हाथ  मे   लेकिन समझ किसी और को आती है 👍👍 3. रेगिस्तान मे भी हरियाली आ जाती है  जब अपने अपनों के साथ खड़े हो जाते…

सीता माता को जब रावण हरण करके ले गया  तब मन्दोदरी ने रावण से पूछा कि  “हे रावण ” यदि आपकी सीता में इतनी ही रूचि थी तो  आप राम का वेश धरकर भी सीता को ले जा सकते थे , साधु का वेश बनाने की क्या जरूरत थी ? रावण बोला देखो “मन्दोदरी ”…

मुस्कराहट – जिंदगी की किताब (पन्ना # 276)

Good day to all divine souls … आपकी मुस्कराहट  आपके चेहरे पर भगवान के हस्ताक्षर है ।  उसको क्रोध करके मिटाने की या  ऑसुओ से धोने की कोशिश ना करो । जीवन मे अपनी तुलना कभी भी किसी से ना करो ।  आप जैसे भी है सर्वश्रेष्ठ है  ईश्वर की हर रचना अपने आप मे…