पते की बात -जिंदगी की किताब (पन्ना # 261)

एक नगर का राजा बहुत ही उदार व दानवीर था । आये दिन कुछ ना कुछ दान करता ही रहता था । कभी कपड़े ,अनाज या स्वर्ण मुद्रायें तो कभी मकान या कृषि के लिये उपजाऊ भूमि । एक दिन राजा को पता नही क्या सूझा ,उसने पूरे राज्य मे घोषणा करवा दी कि कल…

किसान -जिंदगी की किताब (पन्ना # 260)

Good day to all divine souls … किसान की मेहनत से  सभी की भूख मिटती है  लेकिन उसी भूख मिटाने वाले किसान की  किसी ने आज तक परवाह नही की  तभी तो वह भूखा मरता है । आपकी आभारी विमला मेहता जय सच्चिदानंद 🙏🙏