परिवार  -जिंदगी की किताब (पन्ना # 249)

Good day to all divine souls …

परिवार जिंदगी का वह आठवाँ वार हैं, जिसके सुधरते ही सातों वार सुख, शांति व समृद्धि से भर जाया करते हैं।

Advertisements

2 Comments Add yours

  1. Madhusudan says:

    क्या बात कही है—-काश वैसे लोग देख पाते और समझ पाते।प्रेम और आपसी मेल से बड़ा कुछ नही।जहां प्रेम वहां शांति।बहुत खूब।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s