छोटी सी जिन्दगी – जिंदगी की किताब (पन्ना # 247)

Good day to all divine souls …

छोटी सी जिन्दगी —

 बिना रूके हर पल मनवा 

जिदंगी मे बढता चल 

बिना किसी स्वार्थ से 

सबसे प्रेम करता चल

दिल ना दुख पाये किसी का 

इतना सा विचार करता चल

जिदंगी खुशियॉ ,गम से भरी

बिना शिकायत चलता चल  

 कल का जब मालूम नही 

खुशी के साथ बढता चल

खुशी खुशी से जी लो आज 

कल की चिन्ता छोड और आगे चल

सुख दुख तो मेहमान है 

आयेंगे व चले जायेंगे 

ऐसा सोच कर बढता चल

डुबता सुरज फिर आयेगा 

रोशनी की किरण लायेगा 

उम्मीदो के साथ बढता चल

आशा की किरणों के साथ

हँसी ,मुस्कराहट के संग

जिन्दगी मे हरदम भरता चल

छोटी सी है जिंदगी यारों 

बिना वक्त बर्बाद किये

प्यार से तय करता चल …..

आपकी आभारी विमला

जय सच्चिदानंद 🙏🙏

Advertisements

12 Comments Add yours

  1. जय सच्चिदानंद प्रेरक प्रस्तुति

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद । जय सच्चिदानंद 🙏🙏

      Liked by 1 person

  2. Rekha Sahay says:

    बहुत सही कहा आपने.

    Liked by 1 person

  3. divyanchi says:

    Galtiya krna manushye ka swabhav hai or maaf krna devtao ka😊😊😊😊

    Liked by 2 people

      1. divyanchi says:

        👍👍👍👍👍👍

        Liked by 1 person

  4. Madhusudan says:

    प्यार ही जिंदगी ,जिंदगी प्यार है,
    जहां पर प्यार है वहीं भगवान हैं,
    बिल्कुल सही कहा,हम कदम बढ़ेंगे भगवान सौ कदम सहारा।

    Liked by 1 person

    1. सही बात है । धन्यवाद आपको अच्छा लगा

      Like

  5. Meena Ganachari says:

    Really Great lines……

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s