हमारी मान्यताओं का महत्व और उसका वैज्ञानिक कारण–जिंदगी की किताब (पन्ना # 213)

हमारी मान्यताओं का महत्व और उसका वैज्ञानिक कारण.... हमारे पूर्वजों ने दिन रात मेहनत करके कुछ ऐसे धार्मिक रीति रिवाज ,संस्कार व मान्यतायें बनाई है जो हमारे लिये लाभदायक है । इन सभी के पीछे कोई ना कोई वैज्ञानिक पहलू छिपा होता है ।  ये लेख छोटा सा प्रयास है जिसमे कुछ संस्कारों ,मान्यताओं की... Continue Reading →

Advertisements

लिखने की कला – जिंदगी की किताब (पन्ना # 212)

Good day to all divine souls ..... लिखने का कार्य.... किसी भी विषय पर संक्षेप मे लिखना कठिन लेकिन उत्तम कला है ।  ये इस दृष्टान्त से समझ सकते है कि एक राजा जिसका नाम जितशत्रु था ,उसकी सभा मे चार विद्वान चार ग्रन्थ को लेकर लाये जिसके हरेक ग्रन्थ मे एक एक लाख श्लोक... Continue Reading →

कैद–जिंदगी की किताब(पन्ना # 211)

जमाना अपने नियमो से क़ैद है इंसान खुद के दोषों से कैद है  "प्रभु" भक्त के दिल मे कैद है  ज़माने के गिले शिकवे दिल की अलमारी मे कैद है  प्रेमी प्रेमिका एक दूसरे के दिल मे कैद है  खुशी गम के ऑसू ऑखो मे कैद है  अच्छी बुरी यादें हर लम्हो मे कैद है ... Continue Reading →

परिवार –                                जिंदगी की किताब (पन्ना # 208)

Good day to all divine souls ....... जय सच्चिदानंद 🙏🙏 ===================================== परिवार ...... किसी भी परिवार मे भलई बड़ा घर , कार ,ए.सी ,महँगा फर्नीचर ना भी हो तो चलेगा लेकिन आपसी प्रेम हो तो वह इन चीजो से ज्यादा सुख देगा । यदि परिवार के सभी सदस्य खुश है तो समझो कि सच्चे धर्म... Continue Reading →

कोई लौटा दे बचपन के वो दिन –  जिंदगी की किताब – ( पन्ना # 2 ) 

कोई लौटा दे बचपन के वो दिन …... एक दिन दूसरे शहर मे बाजार घूमते घूमते,बरसो बाद अपने पुराने दोस्तों से अचानक मुलाक़ात हो गई और हम सब मिलकर एक रेस्टोरेंट गये । ।बाते करते करते बीते बचपन को याद करने लगे । हम सब बचपन के अहसास भरे क्षण मे इतने खो गये कि... Continue Reading →

बातचीत के अंग – जिंदगी की किताब (पन्ना # 207)

Good day to all divine souls .......  किसी को बुरा मत बोलिए और किसी को अच्छा बोले बगैर मत रहिए। आलोचना एक ऐसा जहर हैं जिसे कोई पीना नहीं चाहता और प्रशंसा एक ऐसा माधुर्य हैं जिसे हर कोई पीना पसन्द करता हैं। जो लोग जिसे पसन्द करते हैं, उन्हें वही पिलाइये न .... आपकी... Continue Reading →

जिंदगी की किताब (पन्ना # 206 ) प्यार ……

Good day to all divine souls ........ प्यार वो नही है जो बंद पिंजरे में कैद पंछियो से किया जाता है  बल्कि प्यार वो है जब कोई उड़ता हुआ पंछी आकर हमारे कंधे पर आकर बैठ जाता है  जय सच्चिदानंद 🙏🙏 picture taken from google 

Blog at WordPress.com.

Up ↑