जिंदगी क्या है ?….

एक मित्र के यहॉ उसके दादाजी से मुलाक़ात हुई ।मैंने उनसे काफी बाते की । बातो बातो मे दादाजी से पूछा आखिर ये जिंदगी है क्या ? इसको जीने के लिये कोई सलाह दीजिये ।

उन्होंने मुझसे सवाल किया कि कभी तेल की कड़ाही साफ़ की है ?

उनके प्रश्न पर आश्चर्य करते हुये बोली कि “जी दादाजी” बहुत बार साफ की है ।

दादाजी बोले ,इससे क्या सीखा ?

मुझे कोई जवाब नही सूझ रहा था ।

वो मुस्कुराये और कहने लगे ,बस इसी मे तुम्हारा जवाब है ।

जिस तरह कड़ाही को बाहर से कम और अंदर से ज्यादा रगड कर धोना पड़ता है ।बस इसी तरह की जिंदगी है हमारी …..

Advertisements

2 Comments Add yours

  1. yourgallerys says:

    really nice thought

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s